हस्तरेखा और अति शुभ मंदिर चिन्ह

हस्तरेखा शास्त्र में बहुत से शुभ चिन्हों का वर्णन किया गया है।जैसे त्रिशूल, वर्ग, त्रिभुज,मछली,ध्वजा,स्वस्तिक आदि ।

शुभ चिन्हों की यदि चर्चा करे तो यह जिस हथेली पर जिस भी पर्वत पर होते है उसकी शोभा बढ़ा देते है ।शुभ चिन्ह अचानक से सब कुछ दे देते है ।जिसकी व्यक्ति उम्मीद भी नहि रखता ।

आइए चर्चा करते है । अति शुभ चिन्ह मंदिर चिन्ह के बारे में ।यह चिन्ह बहुत ही कम व्यक्तियों के हाथो पर पाया जाता है ।

मंदिर चिन्ह की बनावट आम मंदिरो जेसी नहि होती । हाथ की हथेलियों पर इसकी बनावट वर्ग के ऊपर त्रिभुज जेसी होती है जैसा चित्र में दिखाया हुआ है । यह चिन्ह हथेली पर जिस भी पर्वत पर होगा उसके गुणों को बड़ा देगा उस ग्रह के गुण व्यक्ति में आ जाते है ओर सभी ग्रह ज्योतिष और हस्तरेखा शास्त्र में शुभ माने गये है।

  •    मंदिर चिन्ह यदि गुरु पर्वत तर्जनी ऊँगली के नीचे हो तो  व्यक्ति संत,परमात्मा, बनता है। भाग्य रेखा भी इस पर्वत तक आ जाए तो व्यक्ति का भागय धर्म की ओर जैसे मन्दिर बनवाने, दान पुण्य ,ग़रीबों की सेवा में, प्याओ लगवाने में, शास्त्रों का ज्ञाता तथा सम्मानित व्यक्ति होता है ।
  •  मन्दिर चिन्ह यदि शुक्र पर्वत पर अंगूठे के नीचे हो तो ओर शुक्र पर्वत अच्छा उभरा हो तो ऐसे व्यक्ति के चेहरे पर चमक, शरीर पर रोंनक, सम्मानित, रॉयल, अनेक गाड़ियों, घर वाला होता है ।
  • मंदिर चिन्ह यदि अनामिका ऊँगली के नीचे सूर्य पर्वत पर हो तो व्यक्ति प्रतिष्ठित व सम्मानित  होता है। ओर  यदि भागय रेखा भी सूर्य पर्वत की ओर आजाए तो व्यक्ति धर्म के मार्ग पर ही देश विदेश में ख्याति प्राप्त करता है ।
  • मंदिर चिन्ह कनिष्ठा ऊँगली के नीचे बुध पर्वत पर हो तो ओर भागय रेखा भी बुध कीओर  चली जाए तो व्यक्ति का भागय मंदिर, संस्था आदि बनवाने में चमकता है।
  • मंदिर चिन्ह यदि चन्द्र पर्वत पर हो तो देश विदेश गमन करने वाला आम लोगों से अलग दिखने वाला,सुंदर, मन से मजबूत, अपनी माँ को बहुत प्यार करने वाला ओर माता के मंदिर का निर्माण करने वाला होता है।
  • मंदिर चिन्ह यदि मध्यमा ऊँगली के नीचे शनि पर्वत पर हो तो भागय रेखा सीधी शनि पर्वत तक आए तो धर्म के मार्ग पर चलने वाला न्याय प्रिये होता है ।ऐसा व्यक्ति किसी के साथ बुरा होते हुए नहि देख सकता, दयालु, ओर सबकी मदद करने में तत्पर रहता है।
  • मंदिर चिन्ह यदि मंगल पर्वत पर हो तो और मंगल पर्वत उभरा हो तो व्यक्ति साहसी होता है। अपनी  मातर भूमि को माता के समान सम्मान देने वाला, देश का नाम रोशन करने वाला , अच्छा किसान, अनेक भूमि का मालिक होता है।

पॉमिस्ट प्रियंका

 

 

1 Comment Posted

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*


Are You A Robot * Time limit exceeded. Please complete the captcha once again.